Vitamin D test in Hindi: विटामिन डी टेस्ट क्या हैं, नॉर्मल रेंज, खर्च और आहार स्त्रोत

Vitamin D Test in Hindi

विटामिन डी (Vitamin D) हमारे शरीर के लिए एक बेहद उपयोगी तत्व हैं। यह विटामिन A, E और K की तरह एक Fat Soluble Vitamin हैं। Vitamin D को Sunshine Vitamin नाम से भी जाना जाता हैं। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में, अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना बेहद जरूरी है। और अच्छे स्वास्थ्य के लिए, शरीर में पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी होना भी बहुत महत्वपूर्ण है। शरीर के सभी महत्वपूर्ण कार्यों के लिए इस विटामिन की आवश्यकता होती हैं। विशेषज्ञ तो अब इस विटामिन डी को हॉर्मोन के समांतर मानने लगे हैं।

ईस लेख मे आप को यह जानकारी मिलेंगी hide

विटामिन डी क्या हैं ? (Vitamin D in Hindi)

विटामिन डी एक आवश्यक पोषक तत्व है जो शरीर में कई भूमिकाएँ निभाता है, जिनमें शामिल हैं हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाना, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना, और मानसिक स्वास्थ्य को नियंत्रित रखना।

क्या आपको पता हैं – दूध और कॉफी: क्या साथ पीना सही है?

विटामिन डी की कमी के लक्षण क्या हैं ? (Vitamin D deficiency symptoms in Hindi)

विटामिन डी की कमी होने पर हड्डियों और मांसपेशी में दर्द, थकान, मांसपेशी में खीचाव, नींद की कमी, वजन बढ़ना जैसे लक्षण नजर आते हैं। साथ ही विटामिन दी की कमी से बच्चों में Rickets और बड़ों में Osteomalacia जैसे भयानक रोग निर्माण होते हैं।

विटामिन डी टेस्ट क्या हैं ? (Vitamin D test in Hindi)

विटामिन डी टेस्ट यह एक रक्त परीक्षण है जो आपके खून में 25-हाइड्रॉक्सी विटामिन डी / 25(OH)D के स्तर को मापता है। विटामिन डी का यह रूप शरीर में कुल विटामिन डी स्थिति का सबसे अच्छा संकेतक माना जाता है।

  • विटामिन डी का इस्तेमाल करने से पहले, आपका लिवर इसे एक अलग रूप में बदल देता है जिसे 25 हाइड्रॉक्सीविटामिन डी या 25(OH)D कहा जाता है। अधिकतर विटामिन डी के खून के टेस्ट आपके खून में 25(OH)D के स्तर को नापते हैं।
  • आपकी किडनियां 25(OH)D का उपयोग “एक्टिव विटामिन डी” बनाने के लिए करती हैं। एक्टिव विटामिन डी आपके शरीर को हड्डियां बनाने के लिए कैल्शियम का इस्तेमाल करने में मदद करता है और साथ ही अन्य कोशिकाओं (cells) को सही से काम करने में मदद करता है।

विस्तार में पढ़े: Vitamin D के कमी के लक्षण, उपचार और आहार स्त्रोत

विटामिन डी टेस्ट कैसे किया जाता हैं ?

विटामिन डी टेस्ट एक आसान रक्त परीक्षण है, जो डॉक्टर के क्लिनिक या लैब में किया जा सकता है। आमतौर पर हाथ की नस से थोड़ा सा रक्त निकाला जाता है और फिर उसे प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा जाता हैं। यह जांच किसी भी समय कर सकते है और इस जांच के लिए आपको उपवास करने की या भूके रहने की जरुरत नहीं होती हैं।

विटामिन डी का रिपोर्ट कैसे पढ़े ? (Vitamin D report in Hindi)

नॉर्मल विटामिन डी का सामान्य स्तर (Vitamin D normal level in Hindi)

विटामिन डी का सामान्य स्तर 20-50 नैनोग्राम प्रति मिलीलीटर (ng/ml) के बीच होते हैं।

विटामिन डी की कमी (Vitamin D low level in Hindi)

यदि आपके रिपोर्ट में विटामिन डी का स्तर 20 ng/ml से कम हैं, तो आपको विटामिन डी की कमी हो सकती है।

विटामिन डी ज्यादा होना (Vitamin D high level in Hindi)

अगर आपके रिपोर्ट में विटामिन डी का लेवल 50 ng/ml से अधिक हैं, तो आपको विटामिन डी की अधिकता हो सकती है।

विटामिन डी टेस्ट के परिणामों का टेबल

विटामिन डी 25OHD स्तर (ng/ml)स्थितिसंभावित लक्षणउपचार
20 से कमविटामिन डी की कमीथकान, हड्डियों में दर्द, मांसपेशियों में कमजोरी, अवसाद, रिकेट्स (बच्चों में)विटामिन डी सप्लीमेंट
20 से 50पर्याप्तकोई लक्षण नहींकोई उपचार आवश्यक नहीं
50 से अधिकविटामिन डी की अधिकतामतली, उल्टी, कब्ज, कमजोरी, हाइपरकैल्सीमियाविटामिन डी सप्लीमेंट बंद करें, कैल्शियम का सेवन कम करें

कृपया ध्यान दे: आपके रिपोर्ट में कौन से विटामिन डी की जांच की है और कौन से रीएजेंट या मशीन का इस्तेमाल किया है उस पर आपके रिपोर्ट की नॉर्मल रेंज निर्भर करती है इसलिए रिपोर्ट में दायी ओर दी हुई Reference value को जरूर देखे।

क्या आप जानते हैं: बच्चों को Vitamin D की कमी कैसे दूर करे

विटामिन डी जांच क्यों की जाती हैं ?

विटामिन डी टेस्ट कई कारणों से किया जाता है, जिनमें शामिल हैं:

  • विटामिन डी की कमी का पता लगाना: यह जांच उन लोगों में किया जा सकता है जिनमें विटामिन डी की कमी के लक्षण है या विटामिन डी की कमी होने का खतरा होता है, जैसे कि कम धूप वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोग, बुजुर्ग, और त्वचा रोग वाले लोग।
  • विटामिन डी की अधिकता का पता लगाना: यह जांच उन लोगों में किया जा सकता है जो विटामिन डी की दवा या इंजेक्शन का कोर्स ले रहे है।
  • रोग निदान: विटामिन डी की कमी कुछ स्वास्थ्य स्थितियों से जुड़ी हो सकती है, जैसे कि ऑस्टियोपोरोसिस, रिकेट्स, और डायबिटीज।
  • विटामिन डी सप्लीमेंट: यह जाँच यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है कि विटामिन डी सप्लीमेंट लेने वाले लोग पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी प्राप्त कर रहे हैं या नहीं।

उपयोगी जानकारीVitamin B12 Test in Hindi: विटामिन बी 12 खून जांच क्या हैं, खर्च, नार्मल रेंज और आहार स्त्रोत

विटामिन डी की कमी कैसे दूर करे ? (Vitamin D deficiency treatment in Hindi)

Vitamin D की कमी दूर करने के लिए आपको विटामिन डी युक्त आहार का सेवन करना चाहिए, सुबह की धुप लेना चाहिए और आवश्यकता होने पर डॉक्टर की सलाह से विटामिन डी की दवा लेना चाहिए।

विटामिन डी का आहार स्त्रोत (Vitamin D food source in Hindi)

विटामिन डी की कमी दूर करने के लिए दूध, डेरी उत्पाद जैसे दही-चीझ, मशरूम, मछली, अंडा, कॉड लिवर ऑइल आदि का सेवन करे। विटामिन डी फोर्टीफाईड आहार जैसे ब्रेड, सोयामिल्क, दूध, पनीर भी ले सकते हैं।

जरूर पढ़े: Vitamin E कमी के लक्षण, आहार स्त्रोत और फायदे

विटामिन डी के लिए सूर्य किरणे (Vitamin D from Sun)

सूर्य की किरणे विटामिन डी का बेहतर स्त्रोत हैं। सूर्योदय के समय खुले बदन सूरज की किरणे लेने से विटामिन डी मिलता हैं। इसके लिए सुबह 8 बजे के पहले अपने शरीर पर ज्यादा से ज्यादा खुले क्षेत्र पर सूरज की किरणें लेना चाहिए। गोरी चमड़ी वालों की तुलना में काली चमड़ी वाले लोगों को सूरज की की किरणों से विटामिन डी बनाने में अधिक समय लगता हैं। हात या पैर की जगह पीठ पर सूरज की किरणे लेना ज्यादा फायदेमंद हैं।

विटामिन डी की दवा (Vitamin D Supplements)

अपने डॉक्टर की सलाह से आप विटामिन डी के सप्लीमेंट्स ले सकते हैं। विटामिन डी की कमी दूर करने के लिए हफ्ते में एक बार ली जानेवाली 60 हजार IU विटामिन डी की दवा बेहतर होती हैं। इसे 2 महीनो तक हफ्ते में एक बार लेना चाहिए और इसके बाद महीने में केवल एक बार लेने से लाभ होता हैं। इसके अलावा आप विटामिन डी का इंजेक्शन में ले सकते हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी: Vitamin C के फायदे और आहार स्त्रोत

विटामिन डी ज्यादा होने पर क्या करे ? (High Vitamin D in Hindi)

बिना डॉक्टर की सलाह लिए लंबे समय तक विटामिन डी की दवा लेने से विटामिन डी की अधिकता हो सकती हैं। विटामिन डी बढ़ने पर मतली, उल्टी, कब्ज, कमजोरी जैसे लक्षण नजर आते हैं। विटामिन डी की अधिकता का इलाज आमतौर पर विटामिन डी सप्लीमेंट लेना बंद करने और कैल्शियम का सेवन कम करने से किया जाता है।

विटामिन डी की दैनिक आवश्यक मात्रा कितनी हैं ? (Vitamin D daily requirement in Hindi)

विटामिन डी की दैनिक आवश्यक मात्रा (IU):

आयु वर्गपुरुषों और महिलाओं के लिए दैनिक मात्रा (IU)
0-6 महीने400
7-12 महीने400
1-3 वर्ष600
4-8 वर्ष600
9-13 वर्ष600
14-18 वर्ष600
19-50 वर्ष600
51-70 वर्ष600
71 वर्ष और उससे अधिक800
गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं600

क्या आप जानते हैं: Vitamin B12 की कमी के कारण, लक्षण और ईलाज और आहार स्रोत

विटामिन डी से जुड़े सवालों के जवाब (Vitamin D FAQ in Hindi)

विटामिन डी जांच में कितना खर्च होता हैं ?

विटामिन डी जाँच में 1000 रूपए से लेकर 2000 रूपए तक खर्च होता हैं। यह लागत आप किस शहर में और किस लैब में यह जांच कराते है इस पर निर्भर करता हैं।

सबसे अधिक विटामिन डी किस फल में होता हैं ?

सबसे अधिक विटामिन डी संतरा में होता हैं। संतरा में प्रति फल 100 IU विटामिन डी होता हैं। इसके अलावा अंगूर, कीवी, अनानास, स्ट्रॉबेरी में थोड़ी मात्रा में विटामिन डी होता हैं।

सबसे ज्यादा विटामिन डी किस भोजन में होता है?

सबसे अधिक विटामिन डी फैटी मछली सैल्मन, टूना, मैकेरल, सार्डिन में होता हैं।

शाकाहार में सबसे अधिक विटामिन डी किस में होता हैं ?

शाकाहार में सबसे अधिक विटामिन दी की जानकारी निचे टेबल में दी गयी हैं।

शाकाहारी खाद्य पदार्थों में विटामिन डी की मात्रा:

भोजनप्रति 100 ग्राम विटामिन डी (IU)
सफेद मशरूम2.3
सोया दूध3
नाश्ते के अनाज (फोर्टिफाइड)1.5
संतरे का रस (फोर्टिफाइड)1
दूध1
दही0.7
पनीर0.2

क्या मैं सिर्फ धूप से ही पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त कर सकता हूं?

हालांकि धूप विटामिन डी का बेहतर स्रोत है पर कुछ कारक जैसे सनस्क्रीन का उपयोग, त्वचा का रंग और भौगोलिक स्थिति शरीर में विटामिन डी के उत्पादन पर असर डाल सकती हैं। इसलिए, विटामिन डी के अन्य स्रोतों, जैसे सप्लीमेंट और विटामिन डी युक्त आहार भी लेना चाहिए।

विटामिन डी का सबसे सस्ता स्रोत क्या है?

विटामिन डी का सबसे सस्ता स्रोत धूप में समय बिताना है। जब आपकी त्वचा सूर्य की रोशनी के संपर्क में आती है, तो यह विटामिन डी का उत्पादन करती है। सुबह की धुप शरीर पर लेना सुरक्षित होता हैं।

कौन सा ड्राई फ्रूट विटामिन डी से भरपूर होता है?

अंजीर, खजूर, बादाम और किशमिश जैसे ड्राई फ्रूट में विटामिन डी भरपूर होता हैं।

क्या काजू में विटामिन डी होता है?

हाँ, काजू में विटामिन डी होता है, लेकिन यह अन्य ड्राई फ्रूट्स की तुलना में कम मात्रा में होता है।

जरूर पढ़े: Osteoporosis का कारण, लक्षण और ईलाज

अगर आपको विटामिन डी की कमी के लक्षण नजर आते है तो आपने अपने डॉक्टर की राय लेकर विटामिन डी टेस्ट जरूर कराना चाहिए। विटामिन डी हमारे शरीर के लिए के प्रमुख विटामिन तत्व है और इसे आपने गंभीरता से लेना चाहिए।

अगर आपको यह विटामिन डी टेस्ट की जानकारी उपयोगी लगती है तो कृपया इसे शेयर जरूर करे। अगर आपका विटामिन डी टेस्ट को लेकर कोई सवाल है तो निचे कमेंट में जरूर पूछे। धन्यवाद !

Leave a comment

अस्थमा अटैक से घबराते हैं? अब नहीं होगा अटैक, आजमाएं ये 9 योग ट्रिक