ईएसआर जांच क्या हैं | ESR test in Hindi

ESR test in Hindi

ईएसआर (ESR) टेस्ट का meaning या full form है Erythrocyte Sedimentation Rate, यह एक प्रकार की खून जांच हैं। शरीर में किसी भी भाग में सूजन (inflammation) या संक्रमण (infection) का पता लगाने के लिए यह जांच की जाती हैं। इस जांच को Westergren Sedimentation Rate नाम से भी जाना जाता हैं। कुछ लोग इसे SED Rate भी कहते हैं।

ईएसआर टेस्ट क्या है, यह क्यों की जाती है, ईएसआर बढ़ने का घटने का क्या मतलब हैं और इस जांच का क्या महत्त्व है ऐसे अनेक सवालों का जवाब सरल हिंदी भाषा में आज इस लेख मैं हम देने जा रहे हैं।

ईएसआर जाँच क्या हैं ? (What is ESR test in Hindi)

रक्त में मौजूद लाल रक्त कण या Red Blood Cells (RBC) को Erythrocytes भी कहा जाता हैं। Erythrocyte Sedimentation Rate test यानि ईएसआर जाँच में रोगी के रक्त के नमूने को एक लंबी और पतली परीक्षा नली (test tube) में डाला जाता है और यह देखा जाता है की लाल रक्त कोशिकाओं को इस परीक्षा नली के निचले स्तर या तह (bottom) तक आने को कितना समय लगता हैं।

सामान्यतः लाल रक्त कोशकाओं को परीक्षा नली में निचे आने को समय लगता हैं क्योंकि वह धीरे धीरे निचे आते है पर अगर शरीर में कोई सूजन होती है तो यह लाल रक्त कोशिका आपसे में जुड़ कर गुच्छा (clumps) निर्माण कर देते है जिससे यह भारी हो जाते है और परीक्षा नली के तह या bottom तक तेजी से निचे आने से समय कम लगता हैं।

अगर ESR test में RBC तेजी से निचे आ रहे है और ESR test की value सामान्य से ज्यादा है तो इसका मतलब शरीर में कही पर सूजन या संक्रमण हैं। जितना अधिक ESR की value, उतना अधिक inflammation और उतना खतरनाक infection हो सकता हैं।

ज़रूर पढ़े: सीबीसी टेस्ट क्या हैं | CBC Blood test in Hindi

ईएसआर जाँच की नोर्मल रेंज क्या हैं? (ESR test normal range in Hindi)

ESR test की normal range की जानकारी नीचे table में दी गयी हैं:

आयु (Age)सामान्य रिपोर्ट (ESR Normal Range) (mm/hr)
पुरुष (50 वर्ष से कम आयु)<15
महिला (50 वर्ष से कम आयु)<20
पुरुष (50 वर्ष से अधिक आयु)≥20
महिला (50 वर्ष से अधिक आयु)≥30

Note: लैब के मशीन के अनुसार यह नोर्मल रेंज अलग हो सकती है इसलिए अपने रिपोर्ट में दी हुई Reference level को ज़रूर देखे।

ईएसआर जाँच किसे कराना चाहिए? (ESR Test indication in Hindi)

ईएसआर जाँच आमतौर पर उन लोगों के लिए की जाती है जिनमें सूजन, संक्रमण या अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के लक्षण हो सकते हैं। इनमें शामिल हैं:

  • बुखार
  • थकान
  • दर्द
  • वजन घटाना
  • भूख न लगना
  • जोड़ों में दर्द
  • सूजन
  • लालिमा
  • त्वचा की समस्याएं
  • एक हफ़्ते से अधिक दिन की खांसी

ईएसआर जाँच का उपयोग निम्नलिखित स्थितियों के निदान (diagnosis) या प्रबंधन (management) के लिए भी किया जा सकता है:

  • संक्रमण (Infection): जैसे कि निमोनिया, मूत्राशय संक्रमण, या गठिया
  • सूजन संबंधी विकार (Inflammation): जैसे कि रुमेटोइड गठिया, सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, या ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस
  • कैंसर (Cancer): जैसे कि ल्यूकेमिया, लिम्फोमा, या मेलेनोमा
  • अन्य बीमारियां (Disease): जैसे कि सिकल सेल रोग, मल्टीपल स्केलेरोसिस, या ट्यूबरकुलोसिस

उपयोगी जानकारी: यूरिन टेस्ट क्या होता हैं | Urine Routine Test in Hindi

ईएसआर जाँच कैसे किया जाता है? (ESR Test procedure in Hindi)

ईएसआर जाँच एक सरल प्रक्रिया है जो आमतौर पर आपके डॉक्टर के कार्यालय या क्लिनिक में की जाती है।

  • ईएसआर जाँच के लिए, आपको एक नमूना देने के लिए बैठना होगा। नमूना आमतौर पर हाथ के नस से लिया जाता है।
  • नमूना लेने के लिए, एक नर्स या लैब टेक्निशन से आपके हाथ की नस में एक निर्जंतुक सुई डालेगी। सुई डालने के बाद, नर्स एक ट्यूब में रक्त खींचेगी।
  • नमूना लेने के बाद, नमूना एक प्रयोगशाला में भेजा जाता है, जहां इसे एक मशीन द्वारा विश्लेषण किया जाता है। जाँच की रिपोर्ट आमतौर पर आपको ६ से ८ घंटों में मिल जाती हैं।

क्या आप जानते हैं: विडाल टेस्ट क्या हैं | Widal Test in Hindi

ईएसआर बढ़ने का क्या कारण हैं? (High ESR level in Hindi)

ईएसआर बढ़ने का मतलब है कि लाल रक्त कोशिकाएं (RBC) एक टेस्ट ट्यूब के नीचे अधिक तेज़ी से बैठती हैं। यह आमतौर पर तब होता है जब शरीर में सूजन या संक्रमण होता है। सूजन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें शरीर किसी चोट या बीमारी के जवाब में ऊतकों (tissues) को रक्षा और मरम्मत करने के लिए तरल पदार्थ और कोशिकाओं को जमा करता है। संक्रमण तब होता है जब हानिकारक जीवाणु, वायरस या कवक शरीर में प्रवेश करते हैं और बढ़ने लगते हैं।

ईएसआर बढ़ने के अन्य कारणों में शामिल हैं:

  1. संक्रमण (Infection): Virus, Bacteria या Fungal infection के कारण ESR बढ़ने का ख़तरा रहता हैं।
  2. सूजन (Inflammation): Rheumatoid Arthritis, SLE, Inflammatory Bowel Disease (IBS) जैसे Auto Immune रोग में शरीर में सूजन आने से ESR बढ़ जाता हैं।
  3. चोट (Injury): शरीर को चोट या ऊतकों को चोट लगने जैसे कि हड्डी का टूटना (Fracture), हृदय की मांसपेशी को चोट (Heart Attack), जलना (Burns) आदि स्तिथि में ESR बढ़ सकता हैं।
  4. कर्करोग (Cancer): कुछ कैन्सर जैसे की Lymphoma और Multiple Myeloma में ESR अधिक बढ़ जाता हैं।
  5. गर्भावस्था (Pregnancy): गर्भावस्था में प्रोटीन और खून के स्तर में बदलाव के कारण ESR बढ़ता है।

ईएसआर कम होने का क्या कारण हैं? (Low ESR level in Hindi)

ESR की रिपोर्ट नॉर्मल या कम आने के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं:

  1. स्वस्थ व्यक्ति (Healthy Person): स्वस्थ व्यक्ति के रिपोर्ट में ESR नॉर्मल रहता है। शरीर में कोई सूजन या संक्रमण नहीं होने की वजह से यह नॉर्मल रहता हैं।
  2. दवा (Medicine): अगर आप Aspirin या Methyl Presdnisolone, Dexa Methasone जैसी को Steroid दवा ले रहे है तो इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को अवश्य देना चाहिए क्योंकि इन दवाओं से शरीर में inflammation कम होने से ESR कम आ सकता हैं।
  3. रोग (Disease): लिवर से जुड़े रोग, Polycythemia के कारण खून का पतला होना या लाल रक्त पेशी का आकार असामान्य होने से ESR कम हो सकता हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी: रोजाना 30 मिनिट तक चलने से क्या होता हैं ?

ईएसआर जाँच कितने रुपए में होता हैं?

ईएसआर जाँच में 100 से 200 रुपए लगते हैं।यह लागत आप किस लैब और किस शहर में जाँच करा रहे है उस पर निर्भर करता हैं।

ईएसआर जाँच से जुड़े सवालों के जवाब (ESR FAQ’s in Hindi)

ESR का क्या अर्थ हैं?

ESR का full form है Erythrocytes Sedimentation Rate, मतलब रोगी के रक्त के नमूने को एक लंबी और पतली परीक्षा नली (test tube) में डालने पर लाल रक्त कोशिकाओं (RBC) को इस परीक्षा नली के निचले स्तर या तह (bottom) तक आने को कितना समय लगता हैं।

ईएसआर बढ़ने के क्या लक्षण है?

ईएसआर बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से कुछ में कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। हालांकि, कुछ मामलों में, ईएसआर बढ़ने से निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं जैसे की –
बुखार, थकान, वजन घटना, मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों में दर्द, सिरदर्द, सांस लेने में कठिनाई
और त्वचा पर लाल चकत्ते इत्यादि।

क्या ईएसआर जाँच ख़ाली पेट करना चाहिए?

ईएसआर जाँच के लिए उपवास करना या ख़ाली पेट रहने की आवश्यकता नहीं होती है। आप यह जाँच किसी भी समय करा सकते हैं।

ईएसआर बढ़ने पर क्या करना चाहिए?

अगर आपके रिपोर्ट में ESR की मात्रा सामान्य से अधिक है तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए। डॉक्टर ईएसआर बढ़ने के कारण का पता लगाने के लिए अन्य परीक्षणों का आदेश दे सकते हैं। एक बार जब डॉक्टर ईएसआर बढ़ने के कारण का पता लगा लेते हैं, तो वे उपचार निर्धारित कर सकते हैं।

ईएसआर कम करने के लिए क्या करे?

ईएसआर बढ़ने पर सबसे पहले अपने डॉक्टर से बात करें। डॉक्टर ईएसआर बढ़ने के कारण करने के लिए कुछ अन्य जाँच करा सकते है और कारण का पता कर योग्य उपचार करते हैं।
ईएसआर बढ़ने के लिए कुछ घरेलू उपचार भी हैं जो मददगार हो सकते हैं। ये उपचार में शामिल हैं:
1. पर्याप्त आराम (Rest): पर्याप्त आराम शरीर को सूजन से लड़ने में मदद कर सकता है।
2. स्वस्थ आहार: (Balanced Diet): स्वस्थ आहार शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान कर सकता है जो सूजन से लड़ने में मदद कर सकते हैं।
3. नियमित व्यायाम (Exercise): नियमित व्यायाम शरीर को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है।

अगर मेरा ईएसआर ज्यादा है तो क्या मुझे चिंता करनी चाहिए?

यदि आपका ईएसआर बढ़ रहा है, तो आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन यह एक संकेत हो सकता है कि कुछ गड़बड़ है। सबसे अच्छा कदम अपने डॉक्टर से बात करना है ताकि वे ईएसआर बढ़ने के कारण का पता लगा सकें और उचित उपचार निर्धारित कर सकें। यदि ईएसआर बढ़ने के कारण कोई गंभीर स्थिति है, तो जल्द से जल्द उपचार शुरू करना महत्वपूर्ण है।

ईएसआर पहले से कम होने का क्या मतलब हैं?

अगर आपके पुरानी रिपोर्ट में ईएसआर ज़्यादा है और नयी रिपोर्ट में ईएसआर कम हो रहा है तो इसका मतलब है की आपका ईलाज सही चल रहा है और आपकी बीमारी ठीक हो रही हैं। TB के मरीज़ में अक्सर ESR रिपोर्ट बीमारी की गम्भीरता देखने के लिए की जाती है।

अगर आपको ईएसआर जाँच से जुड़ी यह जानकारी उपयोगी लगती है तो कृपया इसे share ज़रूर करे।अगर आपका ESR test या अन्य कोई स्वास्थ्य से जुड़ा सवाल है तो नीचे comment में पूछे।

References:

  1. Hexahealth: ESR Blood Test
  2. Mayo Clinic: SED Rate

Leave a comment

क्या इडली सांबर है पौष्टिक आहार? पढ़े डॉक्टर्स की राय