सीआरपी टेस्ट क्या हैं ? | CRP in Hindi

crp test complete information in Hindi

सीआरपी जाँच (CRP test) का नाम आप ने कोविड़ महामारी के दौरान जरूर सुना होगा। CRP का full form है C-Reactive Protein, यह एक तरह का Protein है जो Liver मे बनता हैं। सीआरपी जाँच मे हमारे blood sample मे C Reactive Protein की level को check किया जाता हैं।

सीआरपी टेस्ट क्यों किया जाता है, कैसे किया जाता है, सीआरपी टेस्ट की normal level क्या है और सीआरपी टेस्ट से हमे क्या पता चलता है इसकी विस्तार मे जानकारी सरल हिन्दी भाषा मे इस लेख मे हम आज देने जा रहे हैं।

सीआरपी टेस्ट क्या हैं ? (CRP test in Hindi)

सीआरपी रक्त परीक्षण मे हमारे रक्त मे सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा कितनी है यह देखा जाता हैं। हमारे शरीर मे किसी बेक्टीरिया या वायरस के संक्रमण (infection), चोट (injury) लगना, कुछ Auto immune रोग मे और smoking आदि कारणों से किसी अंग मे सूजन (inflammation) आती है तो सीआरपी की मात्रा बढ़ जाती हैं।

सीआरपी टेस्ट कैसे किया जाता हैं ?

सीआरपी टेस्ट मे हमारे हाथ मे से खून का नमूना एक plain test tube मे लिया जाता हैं और परीक्षण के लिए लैब में भेज दिया जाता हैं। सीआरपी टेस्ट का रिपोर्ट आने मे 5 से 6 घंटे लग सकते हैं। रिपोर्ट देखकर आपके डॉक्टर आपका रिपोर्ट सही है या गलत यह बता देते हैं।

सीआरपी टेस्ट मे किन बातों का ख्याल रखे ?

सीआरपी टेस्ट आप किसी भी समय करा सकते है। यह जाँच खाली पेट कराना जरूरी नहीं होता हैं । इस जाँच मे रक्त का नमूना लिया जाता है इसलिए आपने कुछ खाना आवश्यक है जिससे चक्कर आना या कमजोरी जैसी समस्या नहीं होंगी। कुछ दर्दनाशक दवा और व्यायाम आदि कारणों से सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा कम ज्यादा हो सकती है इसलिए खून का नमूना देने से पहले कोई भारी व्यायाम न करे और अगर आप कोई दवा लेते है तो इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को जरूर देना चाहिए।

सीआरपी टेस्ट का नॉर्मल स्तर कितना हैं ? (CRP normal levels in Hindi)

सीआरपी टेस्ट मे प्रति लीटर रक्त मे कितना मिलीग्राम सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा है यह पता चलता हैं। सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा के हिसाब से रोगी की स्तिथि का आकलन किया जाता हैं। सीआरपी जाँच की रिपोर्ट और उसका मूल्यांकन नीचे बताया गया हैं।

1. सामान्य स्तर (Normal level) : 3 mg/L से कम
सीआरपी टेस्ट का सामान्य स्तर अलग मशीन या अलग reagent का उपयोग करने पर अलग भी हो सकता है इसलिए हमेशा रिपोर्ट मे दी हुई सामान्य स्तर की मात्रा के साथ अपने रिपोर्ट की तुलना करनी चाहिए।

2. मामूली वृद्धि (low increase) : 3 mg/L से 10 mg/L
मोटापा, गर्भावस्था, धूम्रपान, तनाव, निष्क्रिय जीवनशैली और मामूली चोट के कारण शरीर मे सूजन या inflammation आने से सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा मे थोड़ी वृद्धि संभव हैं।

3. मध्यम वृद्धि (Medium Increase) : 10 mg/L से 100 mg/L
जब शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति शरीर के खिलाफ काम करने लगती है ऐसे auto immune रोग में, कैंसर, एलर्जी की खाँसी होने पर और दिल का दौरा पड़ने पर सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा मे मध्यम वृद्धि संभव हैं।

4. गंभीर वृद्धि (Critical Increase) : 100 mg/L से ज्यादा
शरीर मे कोई गंभीर संक्रमण होने पर या किसी अंधरूनी अंग मे ज्यादा सूजन आने पर सी रीऐक्टिव प्रोटीन की मात्रा मे ऐसी गंभीर वृद्धि संभव हैं।

सीआरपी टेस्ट क्यों की जाती हैं ?

1. संक्रमण (Infection) : जब भी हमारे शरीर मे कोई भी वायरस या बैक्टीरीया का संक्रमण होता है तो सीआरपी का स्तर बढ़ जाता हैं। संक्रमण का स्तर के हिसाब से डॉक्टर पता कर सकते है की रोगी की स्तिथि कितनी गंभीर हैं।
2. दिल का दौरा (Heart attack) : बढ़े हुए सीआरपी का स्तर और सिने मे दर्द, घबराहट, पसीना आना जैसे लक्षण नजर आने पर डॉक्टर को दिल के दौरा आने की आशंका हो सकती है और ईलाज किया ज सकता हैं।
3. ईलाज (Treatment) : रोगी का ईलाज ठीक से चल रहा है या नहीं इसका अनुमान सीआरपी टेस्ट से डॉक्टर कर सकते हैं। अगर सीआरपी टेस्ट मे सीआरपी का स्तर पहले से कम हो रहा है तो इसका मतलब रोगी की स्तिथि मे सुधार हो रहा है और ईलाज सही दिशा मे हो रहा है। अगर सीआरपी टेस्ट मे सीआरपी का स्तर बढ़ रहा है तो इसका मतलब रोगी को ईलाज से लाभ नहीं हो रहा है और ईलाज मे फेरबदल करने की जरूरत हैं।
4. रोग (Disease) : सीआरपी का स्तर कई रोग में बढ़ता है जैसे की अस्थमा, ल्यूपस, संधिवात, कोविड़, मस्तिष्क मे सूजन आदि। रोगी मे इन रोगों के लक्षण नजर आने पर रोग का निदान और स्तिथि का मूल्यांकन करने के लिए डॉक्टर सीआरपी जाँच कराते हैं।

सीआरपी टेस्ट मे कितना खर्च आता हैं ?

सीआरपी टेस्ट मे 500 रुपए खर्च लगता हैं। अगर आप किसी बड़े शहर में और बड़े हॉस्पिटल मे जाँच कराते है तो खर्चा ज्यादा भी हो सकता हैं। कुछ लैब मे Quantitative सीआरपी टेस्ट भी की जाती है जिसमे 200 रुपए खर्च होते है पर इसमे केवल सीआरपी टेस्ट positive है या negative है यही पता चलता है और सीआरपी का स्तर कितना है यह पता नहीं चलता हैं। सीआरपी का स्तर पता करने के लिए Quantitative सीआरपी टेस्ट कराना पड़ता है।

क्या सीआरपी टेस्ट का कोई दुष्परिणाम हैं ?

सीआरपी टेस्ट का कोई दुष्परिणाम नहीं हैं। खून का नमूना लेते समय आपको एक सुई की चुभन होती है केवल यही दुष्परिणाम है और यह चुभन भी 2 मिनिट मे ठीक हो जाती हैं।

क्या आप जानते हैं : मधुमेह मे HbA1c test से हमे क्या पता चलता हैं ?

अगर आपको यह सीआरपी टेस्ट की जानकारी उपयोगी लगती है तो कृपया इसे शेयर जरूर करे। अगर आपका कोई सवाल है तो कृपया नीचे कमेन्ट मे या Contact us मे जरूर पूछे। मैं जल्द से जल्द आपके सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करूंगा।

Leave a comment

किडनी ख़राब होने के यह है प्रमुख 7 लक्षण