Dapagliflozin in Hindi: डापाग्लिफ्लोजिन दवा के फायदे, दुष्परिणाम और डोज़ की जानकारी

Diabetes Dapagliflozin medicine uses dosage side effects in Hindi

डापाग्लिफ्लोजिन (Dapagliflozin) यह मधुमेह (Type 2 Diabetes Mellitus) रोग में बढे हुए ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रखने के लिए उपयोग में ली जानेवाली एक प्रमुख दवा हैं। डायबिटीज के साथ इस दवा का उपयोग हार्ट फेलियर और किडनी फेलियर में भी किया जाता हैं। Dapagliflozin दवा कैसे काम करती है, इसकी मात्रा, उपयोग, दुष्परिणाम और सावधानी से जुडी पूरी जानकारी इस लेख में दी गयी हैं।

डायबिटीज स्पेशल: ग्लिमपीराइड क्या है, उपयोग, दुष्परिणाम और खुराक की जानकारी

डापाग्लिफ्लोजिन क्या हैं? (Dapagliflozin in Hindi)

डापाग्लिफ्लोजिन यह एक sodium-glucose co-transporter 2 (SGLT2) inhibitors ग्रुप की दवा हैं। यह दवा ब्लड में बढ़ी हुई ब्लड शुगर को किडनी द्वारा पेशाब (Urine) के रास्ते बाहर निकलने में मदद करती हैं। यह दवा Type 1 Diabetes में उपयोग नहीं की जाती हैं।

डापाग्लिफ्लोजिन दवा कैसे ब्लड शुगर कम करती हैं? (Dapagliflozin uses in Hindi)

SGLT2 प्रोटीन, ग्लूकोज (शुगर) को वापस रक्तप्रवाह में अवशोषित करने में मदद करता है। डापाग्लिफ्लोजिन SGLT2 को रोककर, ग्लूकोज को मूत्र में जाने देता है, जिससे शरीर से बाहर निकल जाता है।

यह दवा निम्नलिखित तरीकों से रक्त शर्करा को कम करने में मदद करती है:

  • ग्लूकोज का पुन: अवशोषण कम करता है: SGLT2 को रोककर, डापाग्लिफ्लोजिन किडनी द्वारा ग्लूकोज के पुन: अवशोषण (absorption) को कम करता है, जिससे यह मूत्र (urine) में चला जाता है।
  • मूत्र शर्करा को बढ़ाता है: डापाग्लिफ्लोजिन के कारण मूत्र में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे शरीर से अतिरिक्त कैलोरी निकल जाती है।
  • हार्मोन के स्तर को प्रभावित करता है: यह दवा GLP-1 नामक हार्मोन के स्तर को बढ़ाने में भी मदद कर सकती है, जो इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है और ब्लड शुगर को कम करता है।

बेहद उपयोगी जानकारी: डायबिटीज की मेटफोर्मिन दवा की A to Z पूरी जानकारी

डापाग्लिफ्लोजिन के ब्रांड नाम क्या हैं? (Brand names of Dapagliflozin)

डापाग्लिफ्लोजिन अकेले या अन्य डायबिटीज के दवा के साथ बाजार में उपलब्ध हैं। डापाग्लिफ्लोजिन के प्रमुख ब्रांड नाम की जानकारी निचे दी गयी हैं:

दवाब्रांड नाम
DapagliflozinFarixa, Oxra, Gledepa, Dapabite, Dapaxir, Zinodap, Udapa
Dapagliflozin + MetforminOxramet, Xigduo XR, Dapatic-M, Dapabite M, Pafagold M
Dapaglifozin + SitagliptinIstavet D, Sitazit D, Udapa-S

खुशखबर: Diabetes के रोगी अब ले सकते है Term Plan

डापाग्लिफ्लोजिन दवा की खुराक क्या हैं? (Dapagliflozin dosage in Hindi)

Dapagliflozin की खुराक (dose) आपके ब्लड शुगर नियंत्रण पर निर्भर करती है, इसलिए डॉक्टर द्वारा निर्धारित मात्रा ही यह दवा लेना छाईए।

  • डॉक्टर आमतौर पर दिन में एक बार 5 मिलीग्राम या 10 मिलीग्राम की खुराक से शुरू करते हैं।
  • कुछ मामलों में, खुराक को 10 मिलीग्राम तक बढ़ाया जा सकता है।
  • यह दवा गोली के रूप में उपलब्ध है, जिसे निगलना होता हैं।
  • इसे आम तौर पर दिन में एक बार सुबह भोजन के पहले लेने की सलाह दी जाती हैं।

क्या आप जानते हैं: क्या Diabetes के रोगी Brown rice खा सकते हैं ?

डापाग्लिफ्लोजिन दवा के फायदे क्या हैं? (Dapagliflozin benefits in Hindi)

डापाग्लिफ्लोजिन दवा के फायदे इस प्रकार हैं:

  • रक्त शर्करा को कम करता है: यह टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में ब्लड शुगर लेवल को कम करने में प्रभावी है।
  • वजन कम करने में मदद कर सकता है: यह कुछ लोगों में वजन कम करने में भी मदद कर सकता है।
  • हृदय रोग के खतरे को कम कर सकता है: यह हृदय रोग के खतरे को कम करने में भी मदद कर सकता है, खासकर हृदय फेलियर वाले लोगों में।
  • किडनी की बीमारी के जोखिम को कम कर सकता है: यह किडनी की बीमारी के जोखिम को कम करने में भी मदद कर सकता है, खासकर डायबिटीज रोगी में।
  • मूड में सुधार कर सकता है: यह कुछ लोगों में मूड में सुधार कर सकता है।

डायबिटीज के रोगी जरूर पढ़े: डायबिटीज की कौन सी दवा कब लेना चाहिए ?

डापाग्लिफ्लोजिन दवा के नुकसान क्या हैं? (Dapagliflozin side effects in Hindi)

डापाग्लिफ्लोजिन यह एक सुरक्षित दवा है पर इसके कुछ संभावित दुष्परिणाम भी है जिनकी जानकारी नीचे दी गयी हैं:

  • बार-बार पेशाब आना: यह दवा मूत्र में शुगर की मात्रा को बढ़ाकर काम करती है, जिससे रोगी को बार-बार पेशाब के लिए जाना पड़ता हैं।
  • प्यास लगना: मूत्र में अतिरिक्त शुगर के कारण, पेशाब अधिक लगती है और शरीर में पानी की कमी भी होती है जिससे आपको अधिक प्यास लग सकती है।
  • मूत्र मार्ग में संक्रमण: बार-बार पेशाब आने से मूत्र मार्ग में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा पेशाब में शुगर आने से पेशाब मार्ग में बैक्टीरिया बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है। यह दवा लेते समय रोगी को अपने पेशाब की जगह पानी और साबुन से धोकर अच्छे से स्वच्छ रखने की सलाह दी जाती हैं।
  • मतली, उल्टी, दस्त: कुछ लोगो को यह दवा लेने से एसिडिटी बढ़ सकती है पाचन से जुडी समस्या हो सकती हैं।
  • कम रक्त शर्करा: यह दवा ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकती है, जिससे हाइपोग्लाइसीमिया (कम रक्त शर्करा) हो सकता है। यह दवा लेने के बाद आपको खाना खाना नहीं भूलना चाहिए।
  • योनि में फंगल संक्रमण (महिलाओं में): यह दवा महिलाओं में योनि में फंगल संक्रमण का खतरा बढ़ा सकती है। पेशाब की जगह शुगर की अधिकता से फंगल ग्रोथ होने का खतरा बना रहता है।
  • ब्लड प्रेशर कम होना: कुछ रोगी में यह दवा लेने से निम्न रक्तचाप या Low Blood pressure की समस्या हो सकती हैं।
  • एलर्जी प्रतिक्रियाएं: यह दवा गंभीर एलर्जी का कारण बन सकती है, जिनमें चकत्ते, सूजन और सांस लेने में तकलीफ शामिल है। अगर आपको इस दवा से एलर्जी है तो इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को जरूर देना चाहिए।

घर पर शुगर कैसे चेक करे: Diabetes के रोगी घर पर Glucometer से शुगर जांच कैसे करे ?

डापाग्लिफ्लोजिन दवा लेते समय क्या सावधानी बरते? (Dapagliflozin precautions in Hindi)

डापाग्लिफ्लोजिन दवा लेते समय आपको निचे दी हुई सावधानी बरतनी चाहिए:

  • रोग की जानकारी: यदि आपको किडनी की बीमारी, गंभीर एलर्जी, एसिडिटी, लिवर रोग या अन्य स्वास्थ्य स्थितियां हैं तो अपने डॉक्टर को बताएं।
  • प्रेगनेंसी: यदि आप गर्भवती हैं, स्तनपान करा रही हैं या प्रेगनेंसी की प्लानिंग की योजना बना रही हैं तो अपने डॉक्टर को इसकी जानकारी जरूर देना चाहिए।
  • दवा: यदि आप कोई अन्य दवाएं ले रहे हैं, जिसमें हर्बल सप्लीमेंट और ओवर-द-काउंटर दवाएं शामिल हैं, तो भी अपने डॉक्टर को बताएं।
  • ब्लड शुगर कम होना (Hypoglycemia): यह दवा लेने के बाद खाना जरूर खाना चाहिए। यदि आपका ब्लड शुगर लेवल बहुत कम हो जाता है, तो आपको हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण दिखाई दे सकते हैं, जैसे चक्कर आना, पसीना आना, भूख लगना और हाथ कांपना। यदि आपको हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत चीनी या ग्लूकोज युक्त घोल का सेवन करें।
  • स्वच्छता: डापाग्लिफ्लोजिन दवा पेशाब के रस्ते बढ़ी हुई बल्लोद शुगर को बाहर निकालता है जिस वजह से पेशाब की जगह और आसपास की जगह पर बैक्टीरिया या फंगस बढ़ने का खतरा अधिक रहता हैं। इसलिए इस जगह को साबुन और पानी से दिन में दो से तीन बार अच्छे से धोकर साफ़ करना चाहिए।
  • पानी: डापाग्लिफ्लोजिन दवा से पेशाब अधिक लगती है और शरीर में पानी की कमी से डिहाइड्रेशन का खतरा बढ़ जाता है इसलिए अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए।

बेस्ट आर्टिकल: Diabetes में कैसा Diet लेना चाहिए ?

डापाग्लिफ्लोजिन दवा से जुड़े सवालों के जवाब

डापाग्लिफ्लोजिन दवा से वजन कम होता हैं?

हाँ, डापाग्लिफ्लोजिन दवा से वजन कम हो सकता हैं। इस दवा से भूक कम लगती हैं, शुगर नियंत्रण में रहती हैं, फैट लॉस होता है और कैलोरीज कम होती है।

डापाग्लिफ्लोजिन की गोली लेना भूल जाए तो क्या करे ?

जैसे ही आपको याद आए कि आप गोली लेना भूल गए हैं, तुरंत गोली लें। यदि आपकी अगली खुराक का समय निकट है, तो केवल एक गोली लें। भूली हुई खुराक के लिए कभी भी दो गोली एक साथ नहीं लेना चाहिए।

क्या Pregnancy और Breast Feeding के समय में Dapagliflozin दवा ले सकते हैं ?

प्रेगनेंसी में Dapagliflozin लेने की सलाह नहीं दी जाती हैं। यह दवा लेने से माँ और पेट में पल रहे बच्चे को नुकसान पहुंचने का खतरा रहता हैं। स्तनपान के दौरान माता ने Dapagliflozin दवा नहीं लेना चाहिए। यह दवा माता के दूध में में आ सकती है और बच्चे पर गंभीर दुष्परिणाम हो सकते हैं।

Dapagliflozin दवा से कितना शुगर कम होता हैं?

Dapagliflozin से ब्लड शुगर में कमी की मात्रा व्यक्ति-से-व्यक्ति और खुराक के आधार पर भिन्न होती है। कुछ रिसर्च में, Dapagliflozin दवा ले रहे लोगों में एवरेज ब्लड शुगर लेवल (HbA1c) को 0.5% से 1 % तक कम किया है और ब्लड शुगर लेवल को 20 से 40 mg/dl तक कम होता हैं।

डापाग्लिफ्लोजिन का सेवन कब करना चाहिए?

डापाग्लिफ्लोजिन आमतौर पर दिन में एक बार, सुबह भोजन के के पहले लेना चाहिए। इस दवा को दिन में एक बार अपने डॉक्टर की सलाह अनुसार एक फिक्स समय पर लेना चाहिए।

डापाग्लिफ्लोजिन किसे नहीं लेना चाहिए?

Chronic Kidney Disease, Diabetic Ketoacidosis, Type 1 Diabetes, Pregnancy, Breast feeding Mothers और डापाग्लिफ्लोजिन दवा से एलर्जी वाले रोगी ने यह दवा नहीं लेना चाहिए।

क्या dapagliflozin कब्ज का कारण बनता है?

अध्ययनों में पाया गया है कि डापाग्लिफ्लोज़िन लेने वाले 5% से 10% लोगों को कब्ज का अनुभव होता है। यह दवा मूत्र में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ाकर काम करती है, जिससे शरीर से अतिरिक्त पानी निकल जाता है। इससे शरीर में पानी कम हो सकता है, जो कब्ज का कारण बन सकता है। यह दवा लेते समय आपने भरपूर पानी पीना चाहिए।

डापाग्लिफ्लोज़िन के साथ कितना पानी पीना चाहिए?

यह एक आम सवाल हैं। आपको डापाग्लिफ्लोज़िन दवा लेते समय इतना पानी पीना चाहिए की आपकी जीभ (tongue) कभी सुखी न रहे, पेशाब का रंग हमेशा सफ़ेद रहे और जब भी प्यास लगे तब पानी पिए।

Dapagliflozin in Hindi: डापाग्लिफ्लोजिन दवा के फायदे, दुष्परिणाम और डोज़ की जानकारी, यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इसे अपने डायबिटीज के रोगी मित्र परिवार के साथ शेयर जरूर करे।

क्या आप जानते हैं: डायबिटीज में कौन से फल खाना चाहिए?

अगर आपका डायबिटीज या Dapagliflozin दवा को लेकर कोई सवाल है तो कृपया नीचे कमेंट में जरूर पूछे।

धन्यवाद !

References:

  1. Farxiga (Dapagliflozin) US prescribing information: https://www.accessdata.fda.gov/drugsatfda_docs/label/2020/202293s020lbl.pdf
  2. Farxiga (Dapagliflozin) European prescribing information: https://www.ema.europa.eu/en/medicines/human/EPAR/forxiga

Leave a comment

क्या इडली सांबर है पौष्टिक आहार? पढ़े डॉक्टर्स की राय