नाभि में तेल लगाने के अद्भुत आयुर्वेदिक फायदे

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि नाभि (Navel) के साथ स्वास्थ्य और सौंदर्य जुड़ा हुआ है। यह एक प्राचीन उपचार पद्धति है जिसमें नाभि में व उसके आस-पास तेल लगाने से स्वास्थ्य और सौंदर्य दोनों में लाभ होता है। इस चिकित्सा पद्धति में खर्च कम व फायदा ज्यादा होता है।

आयुर्वेद में यह माना गया है कि हमारे शरीर के सारे अवयवों की जड़ नाभि में होती है। नाभी हमारे शरीर की सारी गतिविधियों को नियंत्रित करती है। अगर आप नियमित तौर पर करीब 15 दिन तक नाभि में तेल लगाते हो तो इससे आपको अद्भुत परिणाम दिखेगा और उसके बाद अगर आप रोजाना यह तरीका आजमाते रहते हो तो आपको स्वास्थ्य और सौंदर्य दोनों का खजाना मिलेगा।

नाभि के पास मणिपुर चक्र का स्थान होता है अगर आप नियमित तौर पर नाभि में मालिश करते हो तो मणिपुर चक्र स्वस्थ व सजग रहेगा, जिससे पाचक अवयवों की प्रक्रिया विनियमित होने में मदत मिलेगी। अगर आप जोड़ों के दर्द, सर्दी, एलर्जी, त्वचा विकार आदी से परेशान हो तो हर रोज रात को सोने के पहले खास तेल नाभि में लगाएंगे तो इन परेशानियों से आप को छुटकारा मिलेगा। लेकिन हमें यह जानकारी नहीं होती है कि किस समस्या के लिए किस तेल का प्रयोग करना चाहिए।

जरूर पढे: शतावरी के फायदे और घरेलू उपयोग

आज हम इस लेख में हम आपको नाभि पर कौन सा तेल लगाने से क्या-क्या फायदे होते है इसकी सम्पूर्ण आयुर्वेदिक जानकारी दे रहे हैं :

नाभि पर सरसों का तेल लगाने के क्या फायदे हैं ?

अगर आप घुटनों में, जोड़ों में दर्द से परेशान हो और आपको होठ फटने की समस्या बार-बार हो रही हो तो रात को सोने से पहले सरसों के तेल के दो से तीन बिंदु नाभि में डालकर तथा दो बिंदु से नाभि के आसपास मसाज करके सोना चाहिए। सर्दियों में ड्राइनेस के कारण होंठ फटने, त्वचा फटने की समस्या होती रहती है।

सरसों का तेल ओमेगा फैटी एसिड्स, विटामिन E व एंटीआक्सीडेंट से भरपूर होता है।
इस हैल्दी तेल से मसाज करने से धीरे धीरे आप के जोड़ों का दर्द कम होते जाएगा व आपके होठ नरम व मुलायम बनेंगे।

नाभि पर नीम तेल लगाने के क्या फायदे हैं ?

यौवनावस्था में युवक-युवतियां मुहांसों की समस्या से काफी परेशान हो जाते हैं। उनके लिए यह काफी आसान व कारगर उपाय है। हर रात सोने से पहले नीम तेल नाभि में डालकर उससे मसाज करने से धीरे-धीरे मुहांसों मुहांसों की समस्या से निजात मिलेगा व आपकी त्वचा भी बेदाग सुंदर दिखने लगेगी।

इसके साथ ही अगर आपको त्वचा में खुजली हो रही हो या चकत्ते पड़ रहे हो तो नीम का तेल लगाइए, इससे आप को राहत मिलेगी।

नाभि पर बादाम का तेल लगाने के क्या फायदे हैं ?  

अगर आप सांवलेपन से परेशान हैं व आपके चेहरे की चमक भी चली गई है, तो हर रोज पोषण तत्वों से युक्त बादाम तेल से नाभि की मसाज कीजिए। धीरे-धीरे आपकी त्वचा का रंग खुलेगा, त्वचा में नई जान आएगी व त्वचा साफ सुथरी सुथरी, मुलायम व चमकीली नजर आएगी।

नाभि पर नारीयल का तेल लगाने के क्या फायदे हैं ? 

1. अगर प्रजनन क्षमता से जुड़ी कोई कोई कोई समस्या हो तो हर रात को नारियल तेल या जैतून के कुछ बूंदों से नाभि की मसाज कीजिए।
2. धीरे धीरे आप की प्रजनन क्षमता से जुड़ी समस्या खत्म हो जाएगी।
3. आपके हारमोंस नियमित होगे।
4. हेल्थी शुक्राणु बनने में मदद होगी।
5. पीरियड से जुड़ी समस्याएं खत्म होगी।
6. गर्भधारण की संभावना  बढ़ेगी।
7. कई बार अपच, दस्त, फूड पॉइजनिंग आदि के कारण पेट दर्द होता है, ऐसे में अगर आप नारियल तेल या कोई अन्य तेल से पेट की मसाज करें तो पेट दर्द में काफी राहत मिलेगी।

नाभि पर गाय का घी लगाने के क्या फायदे है ?  

अगर आप कोमल मुलायम त्वचा चाहते हो तो शुद्ध देशी गाय के घी के कुछ बूंदों से नाभी में व उसके आसपास मसाज कीजिए। धीरे धीरे आपकी त्वचा छोटे बालक की त्वचा के समान एकदम मुलायम, कांति युक्त बनेगी।

कहा जाता है, कि हमारे शरीर के हर अवयव की जड़ नाभि के पास होती है, इसीलिए अगर कोई भी समस्या हो और आप नाभि में गाय के घी से मसाज करोगे तो धीरे-धीरे वह समस्या कम होती जाएगी।

यह भी पढे: योग मुद्रा कैसे करे

नाभि पर निम्बू का तेल लगाने के क्या फायदे हैं ?  

विटामिन सी संयुक्त नींबू का तेल त्वचा के दाग धब्बों को दूर करने के लिए काफी उपयोगी होता है। अगर आपके चेहरे पर काफी दाग धब्बे हैं तो रोजाना नींबू का तेल नाभि में अवश्य लगाएं, इससे आपको दाग-धब्बों से छुटकारा मिलेगा।

नाभि पर जैतून का तेल लगाने के क्या फायदे हैं ?

अगर आप स्निग्ध, मुलायम, सिल्की त्वचा चाहते हो तो नहाने के बाद व रात को सोने के पहले नारियल तेल व जैतून के तेल को मिलाकर इससे नाभि व उसके आसपास मसाज कीजिए। इससे त्वचा को प्राकृतिक मॉइस्चराइजर मिलेगा।

नाभि पर अल्कोहोल (होमेओपेथी मेडिसिन) लगाने के क्या फायदे हैं ?

अगर आप बार बार सर्दी से परेशान हो तो रात को सोने के पहले कॉटन में अल्कोहल भिगोकर उसे नाभि में लगाईए। इससे धीरे धीरे आप को सर्दी एलर्जी की समस्या से निजात मिलेगी।

नाभि पर टी ट्री ऑइल (Tea tree oil) लगाने के क्या फायदे हैं ? 

नाभि में अगर गन्दगी हो तो संक्रमण काफी आसानी से हो जाता है ऐसे में टी ट्री ऑयल जोकि जीवाणु रोधक व एन्टी फंगल माना जाता है या सरसों का तेल इसमें भी एन्टी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती है, इनमें से कोई भी तेल को नारियल तेल के साथ मिक्स करके नाभि में लगाए व उसके आसपास मसाज करें इससे संक्रमण धीरे-धीरे कम होगा।
मेडिसिन के साथ यह उपाय करने से परिणाम जल्द मिलेगा।

इसके अलावा कई essential oils भी होते है, जैसे सैंडलवुड ऑइल, रोजवुड ऑइल, नीलगिरी तेल, पुदीना तेल, अदरक तेल आदि। इन्हें भी आप अपनी जरूरत के हिसाब से प्रयोग कर सकते है। जैसे पेट दर्द में पुदीना तेल आदि। लेकिन इस बात को ध्यान रखे, की एसेंशियल ऑइल strong होते है। अतः इन्हें नारियल तेल या कोई अन्य तेल में मिलाकर पतला कर उपयोग में लाये।

नाभि में तेल प्रयोग यह एक प्राचीन उपचार पद्धति है। अगर आपको कोई गंभीर समस्या नहीं है तो इससे आपको धीरे-धीरे काफी फायदा जरुर मिलेगा, क्योंकि हर इंसान की प्रकृति अलग-अलग होती है। लेकिन इसमें कोई नुकसान नहीं है इसलिए आप इस तरीके को आजमा कर देख सकते हैं और इसका लाभ ले सकते हैं। साथ ही इस बात का अवश्य ध्यान रखे कि हर रोज हर रोज रुई में कोई भी तेल लेकर हल्के हाथों से नाभि की सफाई करे।

सेप्टिलीन दवा फायदे, नुकसान और खुराक | Himalaya Septilin medicine in Hindi

Leave a comment

क्या इडली सांबर है पौष्टिक आहार? पढ़े डॉक्टर्स की राय