सेप्टिलीन दवा फायदे, नुकसान और खुराक | Himalaya Septilin medicine in Hindi

septilin fayde nuksan dose in Hindi

सेप्टिलीन (Septilin) यह Himalaya दवा कंपनी द्वारा बेचीं जानेवाली प्रसिद्ध Ayurveda medicine हैं। बच्चों से लेकर बुजुर्गों में इस दवा का उपयोग किया जाता हैं। Septilin दवा का मुख्य उपयोग शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति यानि की immunity बढ़ाने के लिए किया जाता है पर इसके अलावा भी इस दवा के अनेक उपयोग हैं।

Septilin यह दवा Syrup और Tablet ऐसे दोनों form में मिलती हैं। इसके syrup का स्वाद मीठा है और tablet के ऊपर भी Gems chocolate की तरह sugar coating होने की वजह से बच्चे-बड़े सभी इसे आसानी से ले सकते हैं। Septilin दवा के ऊपर Himalaya कंपनी ने कई शोध किये है और इसके कई चमत्कारिक लाभ सामने आये हैं।

सेप्टिलीन दवा क्या हैं ? (Septilin in Hindi)

Septilin यह शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने वाली प्रसिद्द आयुर्वेदिक औषधि हैं। कई एलॉपथी के डॉक्टर भी इसके immunomodulator (immune boosting property) गुण के कारण यह दवा अपने मरीजों को लेने की सलाह देते हैं। शरीर में कही पर भी किसी bacteria या virus का संक्रमण (infection) होने पर इस संक्रमण से लड़ने के लिए Septilin दवा शरीर में सफ़ेद रक्त पेशी की संख्या बढाती है जिससे संक्रमण जल्द नियंत्रण में आ जाता हैं।

Septilin tablets की एक bottle में करीब 60 गोली आती है और इसके एक bottle की कीमत करीब 125 रूपए है। Septilin syrup की 200 ml की bottle आती है जिसकी कीमत करीब 100 रूपए होती हैं। यह एक हर्बल दवा होने से इसकी expiry date भी लम्बी होती हैं।

जरूर पढ़े – Dexona गोली के फायदे और नुकसान

सेप्टिलीन दवा में क्या आता हैं ? (Septilin contents in Hindi)

Septilin दवा में नीचे दिए हुए आयुर्वेदिक औषधि होती हैं :
1. गुडुची : गुडुची में जीवाणुरोधी गुण होने के साथ-साथ यह शरीर में antibody निर्मिति में सहायता करती है जिससे infection जल्द control में आ जाता हैं। पढ़े – गुडुची के फायदे और नुकसान
2. यष्टिमधु : इसे ज्येष्ठमध नाम से भी जाना जाता हैं। इसका स्वाद मीठा होने की वजह से इसे यह नाम दिया गया हैं। इसमें वायरस विरोधी गुण होते है। यह lungs में जमे हुए कफ को निकालने में भी मदद करता हैं जिसके वजह से अस्थमा या एलर्जिक दमा में इसका इस्तेमाल किया जाता हैं।
3. गुग्गुल : इसमें anti inflammatory गुण होते है जिसकी वजह से lungs या गले की सूजन को कम करने में इसका उपयोग किया जाता हैं। यह एक anti oxidant होने की वजह से शरीर को स्वस्थ और जवान रखने में मदद करता हैं। Body को detoxify करने में यह काम आता हैं।
4. मंजिष्ठा : यह औषधि रक्त की शुद्धि करने के साथ-साथ त्वचा रोग को दूर करती हैं।
5. त्रिकटु : सुंठ, मीरे और पिप्पली इन 3 दवा के मिश्रण को त्रिकटु कहा जाता हैं। सर्दी, खांसी, जुखाम और अस्थमा जैसे श्वास रोग को ठीक करने में यह मिश्रण काम आता हैं। शरीर की पाचन शक्ति / digestion भी यह दवा ठीक करती हैं।
6. आंवला : आंवला एक बहुउपयोगी औषधि हैं। यह रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के साथ-साथ विटामिन C का अच्छा स्त्रोत हैं। पढ़े : आंवले के 25 फायदे और नुकसान
7. शंख भस्म : यह कैल्शियम का अच्छा स्त्रोत हैं। रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने के साथ यह Liver के रोग भी ठीक करता हैं।
8. महारास्नादि काढ़ा : यह शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाता है और जोड़ों के दर्द एवं सूजन को कम करता हैं।

सेप्टिलीन दवा के फायदे और उपयोग क्या है ? (Septilin benefits and uses in Hindi)

Septilin दवा के फायदे और उपयोग की जानकारी निचे दी गयी हैं :

1. Septilin बढ़ाता है रोग प्रतिरोधक शक्ति (immunity) : जैसे की अभी तक आपने ऊपर पढ़ा है, Septilin दवा का मुख्य उपयोग शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति या immunity बढ़ाने के लिए किया जाता हैं। ऐसे बच्चे या बुजुर्ग जो की बार-बार बीमार होते है या जरा सा मौसम में बदलाव होने पर जिन्हे आसानी से सर्दी-जुखाम हो जाता है ऐसे लोगो में Septilin दवा का 2 से 3 महीने का course करने से बेहद फायदा होता हैं। हमारा अनुभव है की 2 साल से लेकर 12 साल तक के बच्चे जिन्हे बार-बार दवाखाने के चक्कर लगाने पड़ते है वह Septilin दवा लेने से जल्द बीमार नहीं होते हैं।

क्या आप जानते हैं प्रोटीन सप्लीमेंट लेने के नुकसान क्या हैं ?

2. Septilin से कम होता है बुखार (fever) : Septilin दवा में बुखार को कम करने का anti pyretic गुण है जिस वजह से बुखार जल्द कम हो जाता हैं। डेंगू जैसे वायरल रोग में जहा रोगी का बुखार बेहद ज्यादा बढ़ जाता है और paracetamol से भी जल्द कम नहीं होता है ऐसे में Septilin से बुखार जल्द कम होता हैं।

3. Septilin से कम होती है एलर्जी (Allergy) : ऐसे लोग जिन्हे बार-बार सर्दी, जुखाम या खांसी की समस्या है उन्हें Septilin लेने से अधिक लाभ होता हैं। Septilin से आपकी immunity तो बढ़ती ही है साथ ही एलर्जी भी कम हो जाती है।

जरूर पढ़े वजन बढ़ाना है तो खाए यह फल

4. Septilin से कम होता है संक्रमण (infection) : Septilin दवा लेने से रोग प्रतिरोधक शक्ति में इजाफा होता है। शरीर में कही पर भी bacteria या virus के कारण infection होने पर antibiotics दवा के साथ-साथ आप डॉक्टर की सलाह से Septilin का उपयोग करने से उस infection को जल्द control कर सकते हैं। इससे आपको अधिक समय तक भारी antibiotic दवा लेने की जरुरत नहीं पड़ती हैं। शरीर में कही पर भी infection हो जैसे की respiratory, urine, joint, skin या soft tissue infection आप Septilin दवा ले सकते हैं।

5. Septilin बनाये रखता है स्वस्थ और जवान (young and healthy) : Septilin दवा लेने से आप आसानी से बीमार नहीं होते है और इसके antioxidant गुणों की वजह से आपकी त्वचा भी जवां और खूबसूरत रहती हैं। कोई भी सामान्य व्यक्ति अपने डॉक्टर की सलाह लेकर इसे एक स्वास्थ्य टॉनिक समझकर इसका उपयोग कर सकता हैं।

उपयोगी जानकारी यह पढ़ेंगे तो नाभी में तेल जरूर लगाएंगे

सेप्टिलीन दवा के क्या नुकसान है ? (Septilin side effects in Hindi) 

Septilin यह एक पूरी तरह से हर्बल दवा है इसलिए इसका कोई विशेष दुष्परिणाम नहीं हैं। इसका उपयोग अगर आप डॉक्टर की सलाह से बताये हुए मात्रा में और बताये हुए समय तक ठीक तरह से करते है तो इससे आपको कोई दुष्परिणाम नहीं होता है। अगर इसका overdose होता है तो आपको जी मचलाना, पेट में दर्द, उलटी, जुलाब लगना, चक्कर आना और जी घबराना जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं। ऐसे लक्षण नजर आने पर तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करे।

सेप्टिलीन दवा की खुराक कितनी है ? (Septilin dosage in Hindi)

1. सेप्टिलीन गोली का खुराक (Septilin Tablet dosage) :पहले दो दिन दिन में दो गोली सुबह शाम खाने के बाद लेना होता है और उसके बाद तीसरे दिन से रोज एक गोली सुबह और शाम खाने के बाद लेना चाहिए।

2. सेप्टिलीन सिरप का खुराक (Septilin syrup dosage)
a) 2 साल से 4 साल तक के बच्चों को 2.5 ml दिन में दो बार खाने के बाद
b) 4 साल से 6 साल तक के बच्चों को 5 ml दिन में दो बार खाने के बाद
c) 6 साल से बड़े बच्चों को 10 ml दिन में दो बार खाने के बाद

क्या सेप्टिलीन दवा रोज ले सकते है ?

सेप्टिलीन दवा अपने डॉक्टर की सलाह से ही तय समय अवधि तक ही लेना चाहिए। ऐसे तो इस दवा का कोई विशेष दुष्परिणाम नहीं है पर अधिक मात्रा मे और अधिक समय तक लेने से acidity, पेट दर्द, जुलाब, कब्ज जैसी समस्या निर्माण होने का खतरा रहता है। अगर आपको अपनी रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए सेप्टिलीन दवा का उपयोग करना है तो दो महीने तक इस दवा का सेवन करे और फिर बीच मे एक महीने का अंतराल लेना चाहिए ।

क्या सेप्टिलीन दवा खांसी के लिए लिया जा सकता हैं ?

सेप्टिलीन दवा सर्दी, खाँसी, जुखाम जैसे समस्या मे बेहद उपयोगी दवा हैं। आप खाँसी के लिए सेप्टिलीन दवा ले सकते हैं पर अगर खाँसी 5 से 7 दिन मे ठीक नहीं हो रही है तो अपने डॉक्टर को जरूर जाँच कराना चाहिए।

क्या सेप्टिलीन दवा पैरासेटामॉल के साथ ले सकते है ?

सेप्टिलीन दवा और पैरासेटामॉल दवा दोनों को काम करने का तरीका अलग है और दोनों दवा का साथ मे कोई interaction भी नहीं है इसलिए दोनों दवा साथ मे ले सकते हैं। जैसे पैरासेटामॉल दवा से बुखार, सरदर्द और बदनदर्द कम होता है ठीक वैसे ही सेप्टिलीन दवा से भी कुछ हद तक यह लक्षण कम होते है। आपको कौन सी दवा कब लेना है यह अगर आप अपने डॉक्टर से पूछ कर करे तो आपको ज्यादा लाभ हो सकता हैं।

क्या सेप्टिलीन दवा पानी मे मिलाकर ले सकते है ?

ऐसे तो सेप्टिलीन दवा की गोली और सिरप दोनों का स्वाद काफी अच्छा है इसलिए आप पानी के साथ निगलकर भी इसे ले सकते है। अगर आप ऐसे नहीं ले सकते है तो सेप्टिलीन दवा को आप पानी मे मिलाकर भी ले सकते है इसमे कोई गलत नहीं हैं।

ऐसे तो Septilin एक सुरक्षित और बहुउपयोगी औषधि है पर फिर भी हमारा आपसे अनुरोध है की इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने फॅमिली डॉक्टर की सलाह अवश्य लीजिये।

अवश्य पढ़े – चेहरे को गोरा बनाने के घरेलु आयुर्वेदिक नुस्खे

अगर आपको यह सेप्टिलीन दवा फायदे, नुकसान और खुराक की जानकारी उपयोगी लगती है तो कृपया इसे शेयर ज़रूर करें। अगर आपको इस लेख में कोई जानकारी के विषय में सवाल पूछना है तो कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में या Contact Us में आप पूछ सकते है। मैं जल्द से जल्द आपके सभी प्रश्नों के विस्तार में जवाब देने की कोशिश करूँगा।

1 thought on “सेप्टिलीन दवा फायदे, नुकसान और खुराक | Himalaya Septilin medicine in Hindi”

Leave a comment

किडनी ख़राब होने के यह है प्रमुख 7 लक्षण