रक्तदान का महत्व क्या है | Blood donation information in Hindi

Blood donation benefits information in Hindi

रक्तदान (Blood Donation) यह जीवन दान है। आप एक बार blood donate कर 3 लोगों की जान बचा सकते है। रक्तदान कौन कर सकता है, कौन नहीं कर सकता है, कब कर सकता है और रख दान का क्या महत्व है ऐसे सभी प्रश्नों का जवाब आज हम इस लेख मे आपको विस्तार मे देने जा रहे है। हर वर्ष 14 जून के दिन World Blood Donation Day मनाया जाता है। लोगों मे रक्तदान के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए यह विशेष दिन मनाया जाता है।

रक्त मानव शरीर का एक प्रकार का तरल पदार्थ है, जो शरीर के कोशिकाओ (cells) को आवश्यक पोषक तत्व और प्राणवायु (oxygen) पहुचाने का काम करता है और कोशिकाओ से खराब पदार्थ को शरीर से बाहर निकलने का कार्य करता है। रक्त की कमी के कारण देश भर में हर साल लाखो लोगो की मृत्यु हो जाती है।

आंकड़ो के अनुसार देश में हर साल 4 करोड़ यूनिट खून की आवश्यकता होती है, पर मुश्किल से 40 से 50 लाख यूनिट रक्त ही Blood Donation द्वारा एकत्रित हो पाता है। हर 2 सेकंड में किसी न किसी को रक्त की जरुरत होती है और ऐसे में हर दिन 38000 रक्तदाताओ (Blood Donor) की जरुरत है, लेकिन Blood Donation को लेकर समाज में फैली भ्रांतियों और जागरूकता के अभाव में लोग Blood donate करने के लिए आगे नहीं आते है।

Blood Donation के प्रति जागरूकता फ़ैलाने के लिए और समाज में Blood Donation को लेकर जो भ्रान्तिया है उसे दूर करने के लिए, रक्तदान (Blood Donation) के बारे में विस्तृत जानकारी निचे दी गयी है :

रक्तदान की जरूरत क्यों है ? (Why Blood donation is necessary in Hindi)

1. रक्त जीवन रक्षक है ! अब तक किसी ऐसी मशीन का शोध नहीं लगा है जो की कृत्रिम रक्त तैयार कर सके। किसी रक्तदाता / Blood donor द्वारा Blood Donation करने पर ही रक्त की कमी या जरुरत को पूरा किया जा सकता है। 
2. हर साल करोडो लोगो को रक्त की जरुरत होती है पर कुछ लाखो नसीबवालो को ही रक्त मिल पाता है। 
3. Sickle Cell  के मरीज को कई बार Blood Donation की जरुरत पड़ती है। 
4. अकेले एक Car Accident में ही 100 यूनिट रक्त की जरुरत पड सकती है।  
5. एक बार  Blood Donation कर आप 3 लोगो की जिंदगी बचा सकते है। 
6. अगर आप 18 साल की उम्र से 60 साल की उम्र तक हर 90 दिन बाद Blood Donation करते है, तो लग भग 30 gallon Blood Donate कर चुके होंगे जो की 500 लोगो की जान बचा सकता है। 
7. भारत में सिर्फ 7% लोगो का  Blood group ‘O Negative’ है। ‘O Negative’ Blood Group को Universal Donor भी कहते है। किसी भी  Blood group के लोगो को ‘O Negative’ Blood Group का रक्त दिया जा सकता है। Emergency के समय या नवजात बालक जिनका Blood Group पता न हो, ऐसे समय ‘O Negative’ रक्त बहुत उपयोग में आता है। 
8. भारत में सिर्फ 0.4 % लोगो का Blood group ‘AB’ होता है। इस Blood group के Plasma का उपयोग किसी भी Blood group के लोगो को emergency में लगा सकते है। 
9. कई प्रकार के operation, emergency या बीमारी में  Blood Transfusion की जरुरत पड़ती है। अगर पर्याप्त मात्रा में समय पर रक्त न मिले तो रोगी व्यक्ति को काफी तकलीफ हो सकती है और उनकी मृत्यू भी हो सकती है। 

रक्तदान कैसे किया जाता है ? (Blood donation procedure in Hindi)

एक औसत व्यक्ति के शरीर में 10 यूनिट  (5 से 6 लीटर) रक्त मौजूद होता है। Blood Donation के समय सिर्फ 1 यूनिट रक्त ही लिया जाता है।  Blood donation की प्रक्रिया काफी सरल है और इसमें डरने की ज़रा भी जरुरत नहीं है। Blood donation किस तरह किया जाता है इसकी जानकारी निचे दी गयी है :

1. सबसे पहले आपका Registration होता है। आपका नाम, उम्र, पता इत्यादि जानकारी ली जाती है। 
2. आपकी Medical history ली जाती है। 
3. आपका Mini-physical परिक्षण किया जाता है जिसमे आपका Blood pressure, Pulse, Weight, Temperature के बाद Blood group और Hemoglobin level की जाँच की जाती है। 
4. Blood donation करने योग्य पाए जाने पर आपको Blood donation कक्ष में टेबल पर लिटाया जाता है। आप के हाथ में एक निर्जन्तुक सुई (sterile needle) द्वारा 1 यूनिट खून 10 से 15 मिनिट में लिया जाता है। 
5. Blood donation करने के बाद, एक बार फिर से आपका  Blood pressure और Pulse परिक्षण किया जाता है। 
6. आपके रूचि अनुसार Blood donation के बाद आपको चाय-बिस्कुट या कोल्ड ड्रिंक दिया जाता है। 
7. Blood Donation के बाद १/२ घंटे तक वाहन न चलाए।  
8. आपको आपका Blood group card और Blood Donation Certificate भी दिया जाता है।      
9. जब भी आप रक्तदान करते है तब आपके रक्त की जाँच कई बीमारियों के लिए की जाती है जैसे की AIDS, Hepatitis B, Hepatitis C, Syphilis आदि और अगर आपको कोई बीमारी निकलती है तो आपको इसकी जानकारी भी दी जाती है। यह सभी जाँच आपके लिए मुफ़्त होती है।

रक्तदान कौन कर सकता है ? (Who can donate blood information in Hindi)

अगर आप निचे दिए गए श्रेणी में आते है तो आप Blood Donation कर सकते है।
1. उम्र : आपकी उम्र 18 से 60 साल के बिच है।  
2. वजन : आपका वजन (Weight) 45 Kg या उससे ज्यादा है। 
3. नाड़ी : आपकी Pulse Rate 50 से 100 / min के बिच होनी चाहिए। 
4. तापमान : शरीर का तापमान / temperature 99.5°F से कम होना चाहिए। 
5. नीचे का ब्लड प्रेशर : Diastolic Blood Pressure 100 mm/Hg से कम होना चाहिए ।
6. ऊपर का ब्लड प्रेशर : Systolic Blood Pressure 160 mm/Hg से कम होना चाहिए।   
7. हीमोग्लोबिन की मात्रा : रक्त में Hemoglobin (Hb) की मात्रा 12.5 gm/dl से ज्यादा होना चाहिए।  
8. रक्तदान मे अंतराल : पुरुष 90 दिन और महिलाए 120 दिन बाद दोबारा Blood Donation कर सकते है। 
9. स्वास्थ्य : आप स्वस्थ है और आपको मलेरिया, टाइफाइड, हेपेटाइटिस इत्यादि संक्रामक बीमारी नहीं है या काफी समय से नहीं हुई है।   
10. वैक्सीन : आपने हाल ही मे कोई वैक्सीन नहीं ली है।

“वे युवा बधाई के पात्र है जिन्होंने अपने रक्त से जीवनदान दिया है एवं जो दे सकते है “

रक्तदान कौन नहीं कर सकता है ? (Who can not donate blood information in Hindi)

अगर आप निचे दिए गए श्रेणी में आते है तो आप Blood Donation नहीं कर सकते है।
1. चक्कर आना : पिछले Blood Donation के समय काफी चक्कर या थकावट महसूस की हो। 
2. Blood Transfusion : अगर आपको किसी वजह से बार-बार Blood transfusion किया हो। 
3. मासिक : मासिक रक्तस्त्राव के समय Blood Donation से परहेज करे।
4. नशा : आप को कोई drug addiction या व्यसन हो। 24 घंटे के भीतर शराब का सेवन किये हुए व्यक्ति। 
5. वेश्यागमन : कई लोगो (High risk individual) के साथ शारीरिक सम्बन्ध होना या वेश्यागमन किया है । 
6. एड्स रोगी : आप HIV Positive है या आप में AIDS के निचे दिए गए लक्षण मौजूद है। जैसे की :
a) बेवजह वजन कम होना / Unexplained weight loss 
b) रात के समय काफी पसीना आना। 
c) शरीर या मुंह में नीले, जामुनी या लम्बे समय से सफ़ेद दाग या धब्बे होना। 
d) गर्दन / बगल या शरीर के किसी हिस्से में लम्बे समय से गांठ (swollen lymph node) होना।     
e) बार-बार बीमार होना या 99.5°F से ज्यादा का बुखार आना। 
f) 1 महीने से ज्यादा समय तक दवा लेने के बाद भी दस्त / loose motions की तकलीफ ठीक न होना। 
g) HIV antigen / antibody test Positive आना। 

किस रोग मे कितने समय तक रक्तदान नहीं कर सकते है ?

आप कुछ बीमारी या विशेष अवस्था में कुछ समय तक रक्तदान / Blood donation नहीं कर सकते। इस क़ि जानकारी निचे तालिका में दी गयी है :

रोग (Disease)कितने समय तक रक्तदान न करे
(Postpone Blood Donation Period)
पीलिया – Jaundice1 साल
मलेरिया – Malaria3 महीने
रैबीज़ वैक्सीन – Rabies Vaccination1 साल
गर्भपात – Abortion3 महीने
गर्भावस्था – Pregnancy1 साल
स्तनपान – Breast feeding1 साल
खून चढ़ाना – Blood Transfusion6 महीने
बड़ा ऑपरेशन – Major Surgery6 महीने
छोटा operation – Minor Surgery3 महीने
Typhoid Diptheria Tetanus Vaccination15 दिन
Immunoglobulin injection1 साल
कान छिदवाना या टेटू बनाया है6 महीने
दांत निकलवाना – Tooth extraction72 घंटे
दवा लेना – Antibiotic, Steroid या Aspirin72 घंटे
सर्दी खांसी या जुखाम होनाठीक होने के 1 हफ्ते बाद
टीबी रोगीटीबी की दवा का पूरा कोर्स करने के 2 साल बाद
चिकन पॉक्स1 साल बाद

कौन सी दवा लेने के बाद व्यक्ति रक्तदान नहीं कर सकता है ?

नीचे दी हुई दवा लेने के बाद व्यक्ति रक्तदान नहीं कर सकता है :
1. Etreinate : Psoriasis के ईलाज मे इस्तेमाल की जानेवाली यह दवा लेने वाला व्यक्ति कभी भी रक्तदान नहीं कर सकता है।
2. Finasteride : Prostate की सूजन मे उपयोग की जानेवाली यह दवा लेने के 1 महीने बाद आप रक्तदान कर सकते है।
3. Isotretionoin : मुँहासों के ईलाज मे दी जानेवाली यह दवा लेने के 1 महीने बाद आप रक्तदान कर सकते है।
4. Aspirin : सरदर्द मे उपयोगी और खून पतला करने के लिए इस्तेमाल की जानेवाली यह दवा लेने के 72 घंटों के बाद आप रक्तदान कर सकते है।
5. गर्भनिरोधक गोली (Contraceptive pills) : यह दवा लेने के बाद आप किसी भी समय blood donate कर सकते है।
6. Thyroxine : Hypothyroidism मे दी जानेवाली यह दवा लेने के बाद आप किसी भी समय blood donate कर सकते है।
7. Human growth hormone : शरीर का विकास तेजी से किए जाने के लिए इस्तेमाल मे किए जानेवाले यह दवा लेने के बाद आप कभी भी रक्तदान नहीं कर सकते है।
8. Insulin : इंसुलिन या रोजाना कोई इन्जेक्शन लेने वाले रोगी कभी भी रक्तदान नहीं कर सकते है।

कौन से रोग से पीड़ित रोगी रक्तदान नहीं कर सकते है ?

1. कर्क रोग – Cancer
2. ह्रदय रोग – Heart Disease
3. मधुमेह के मरीज जो लगातार Insulin के injection  ले रहे है
4. संक्रामक पीलिया – Infectious Hepatitis 
5. किडनी की बीमारी – Chronic Nephritis 
6. कुष्ठ रोगी – Leprosy 
7. मिरगी – Epilepsy 
8. Liver की बीमारी 
9. AIDS रोगी 
यह सभी रोग से पीड़ित रोगी रक्तदान के लिए उपयुक्त नहीं है।

रक्तदान के क्या फायदे है ? (Blood Donation benefits in Hindi)

1. Heart Attack मे कमी : Research से यह पता चला है की, रक्तदान करने से Heart Attack और Cancer होने की आशंका कम हो जाती है। शरीर में cholesterol की मात्रा घटती है। 
2. मोटापा कम होता है : Blood Donation करना Weight loss करने वालो के लिए भी फायदेमंद है। एक बार रक्तदान करने पर लगभग 650 calories खर्च हो जाती है। 
3. Iron की मात्रा : Blood Donation करने से जरुरत से ज्यादा की Iron level की मात्रा कम हो जाती है। बहुत ज्यादा Iron level होना भी रक्तवाहिनियो के लिए नुक्सानदेह होता है। 
4. हृदय रोग मे कमी : रक्तदान करने वालो में ह्रदय रोग की आशंका 33% कम हो जाती है। 
5. रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है : मानव शरीर में रक्तदान के रूप में किए गए रक्त की मात्रा की पूर्ति 24 घंटे में और कोशिकीय भाग की पूर्ति 1 से 2 माह के अन्दर पूरा कर लेता है। इससे शरीर की कार्यक्षमता और रोग प्रतिकार शक्ति बढती है। 
6. Bone Marrow सक्रिय रहता है : रक्तदान करने से अस्थि मज्जा (Bone marrow) सक्रीय बना रहता है, जो रक्त निर्माण में साहायक होता है। रक्तदान करने से शरीर में रक्त बनने की प्रक्रिया में तेजी आती है।  
7. रक्त का निर्माण सामान्य रहता है : नियमित रक्तदाता में रक्त बनने की क्षमता उम्र के बढ़ने पर भी लगभग सामान्य बनी रहती है। 
8. मुफ़्त मे जाँच : रक्तदान के वक्त आप का मुफ्त में physical जाँच और laboratory जाँच भी होती है। 
9. पुण्य का काम : रक्तदान कर के आप किसी को पुनर्जीवन प्रदान करते है। आप सिर्फ एक जिंदगी नहीं बल्कि उनसे जुडी कई अन्य जिंदगियो की भी मदद करते है। Blood Donation कर हम कई जिंदगीया बचाने का पुण्य कार्य करने का मौक़ा मिलता है। 
10. कोई हानी नहीं : रक्तदान से शरीर पर कोई कुप्रभाव नहीं पड़ता है और न ही किसी प्रकार की हानि होती है। 
11. संतोष प्राप्ति : रक्तदान महादान है !! यह दान करने पर मिलनेवाली ख़ुशी और संतोष को शब्दों में बया नहीं किया जा सकता है।  

Donate Blood ! Save a Life !!

मेरी आप सभी से प्रार्थना है की, आज ही रक्तदान करने का संकल्प ले और किसी जरूरतमंद की सहायता करने की हर संभव कोशिश करे। आप जरुरत पड़ने पर  Blood Donation करने के लिए निचे दिए गए विकल्प चुन सकते है। 

  1. अपने शहर के Blood Bank में अपना नाम, पता, Blood group और Mobile number दर्ज करे ताकि किसी व्यक्ति को खून की जरुरत के समय आपसे संपर्क हो सके। 
  2. आपके Family Doctor के पास अपना नाम, पता, Blood group और Mobile number दर्ज करे ताकि किसी व्यक्ति को खून की जरुरत के समय आपसे संपर्क हो सके। 
  3. आप अपने अपने मित्रो या रिश्तेदारों के साथ मिलकर अपने society में या Whatsapp, Facebook और Tweeter पर Blood Donor group बना सकते है।   
  4. आप कुछ online websites पर अपना नाम register करा सकते है। जैसे की friends2support , srkrc , bloodhelpers 

अगर आपको रक्तदान का महत्व क्या है | Blood donation information in Hindi यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर Whatsapp, Facebook या Tweeter पर share जरूर करे !

आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है।

15 thoughts on “रक्तदान का महत्व क्या है | Blood donation information in Hindi”

  1. हर साल करोडो लोगो को रक्त की जरुरत होती है पर कुछ लाखो नसीबवालो को ही रक्त मिल पाता है। परितोष जी बहुत अच्‍छी जानकारी है, आप लोगों को बहुत अच्‍छा सन्‍देश दे रहे हैं ! स्वागत है !

  2. Hii friends
    Me bhi blood donetion jeise khuch group se jufa huaa h
    Blood donetion se jo khushi milti h wo 1 alag hi khushi h jiska koi andaja nhi
    Me sabhi se anurodh krunga k kisi 1 jarurat mand ki help karke dekhe ..accha lagta hai 8109165173

Leave a comment

किडनी ख़राब होने के यह है प्रमुख 7 लक्षण