Pregnancy मे महिला कैसे बढ़ायें अपनी रोग प्रतिकारक शक्ति (immunity)

एक स्वस्थ और सुरक्षित pregnancy के लिए गर्भवती महिला की रोग प्रतिरोधक शक्ति जिसे immunity भी कहा जाता है, अच्छी होना जरूरी होता हैं । किसी ने कहा है किजैसा आप खाते हैं वैसे ही बन जाते हैं। गर्भवती होने पर यह कहावत आप पर बिल्कुल ठीक बैठती है इसलिये अपनी और अपने शिशु की सेहत को पक्का करने लिये जरूरी है कि अपने रहनसहन और पोषण को सबसे ऊपर रखा जाये।

गर्भावस्था में बीमार होने से अच्छा है शरीर की बीमारी से लड़ने की ताकत को बढ़ाया जाये और इन बातों से आप उन नौ महीनों में अपने शरीर की बीमारी से लड़नें की शक्ति को बड़ी सहजता से बढ़ा सकते हैं। 

गर्भावस्था में महिला विभिन्न रोगों से बचने के लिए अपनी रोग प्रतिकार शक्ति या Immunity को कैसे बढ़ाए इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :

गर्भवती महिला कैसे बढ़ायें अपनी रोग प्रतिकारक शक्ति ? (How to increase Immunity in Pregnancy in Hindi)

Pregnancy मे महिला कैसे बढ़ायें अपनी immunity

गर्भवती महिला अपनी रोग प्रतिकार शक्ति कैसे बढ़ाये इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :

1. सही खाना खायें

गर्भवती होने पर खाने का लालच बढ़ जाता है। चाॅकलेट केक और तली हुई चीजें देखते ही आप बोल पड़ती हैं, ‘ओह!! इस खाने से खुद को रोक पाना मुष्किल है। मैं कहती हूँ, थोड़ा सा समझदार बनें और जो कुछ भी आपका खाने का मन हो रहा है उसे एक सेहतमंद मोड़ दें। ताजा मौसमी फल खरीदे और उनसे चटपटा सलाद बनायें या फल और आटे का केक या कुछ ज्यादा चटखारेदार (बनाने का तरीका गूगल पर खोजें) हर समय अपने पास सेहतमंद नाष्ता रखेंबादाम, किषमिष, अंजीर, खजूर, गाजरें या अखरोट। बादाम, अखरोट जैसे फल विटामिन और मिनरल की खान होते हैं।

2. व्यायाम करें, अच्छा लगे या लगे

इसे बिल्कुल नही छोड़ सकते। गर्भावस्था के समय आपको चुस्तदुरूस्त रखने में व्यायाम की बड़ी भूमिका होती है। बहुत से व्यायाम खासकर गर्भवती महिलाओं के लिये ही बने हैं तो जिसे करने से आपको अच्छा लगे, उसका पता लगायें। प्रसव होने से पहले का योग केवल आपको तंदरूस्त रखता है बल्कि आपका तनाव भी कम करता है। गर्भावस्था के समय काम करते रहना इस बात को यकीनी बनाता है कि आपका वजन ज्यादा बढ़ सके और यह गर्भावस्था के समय डायबिटीज को रोकने में भी मदद करता है।

3. यह करना भूलें

एक खास वजह से आपके डाक्टर ने कुछ विटामिन, फोलिक एसिड, कैल्सियम और शरीर की अन्य जरूरतों को पूरा करने वाले सप्लीमेंट लेने के लिये कहा है, तो इसे लिख कर चिपकाना पड़े या और कुछ करना पड़े पर इन्हे जिस तरह लेने के लिये कहा गया है, बिना भूले उन्हे लें। चूंकि हम ज्यादातर समय घर के अन्दर ही बिताते हैं जिससे शरीर को पर्याप्त धूप नहीं मिल पाती इसलिये जरूरी है कि इसमें विटामिनडी सप्लीमेंट शामिल होइसे शुरू करने से पहले अपनी डाक्टर से बात करें।

4. इनसे बचें

मौसम बदलने के साथ ही बुखार के मामलों की बाढ़ सी जाती है। इस समय असल खतरा होते हैं मच्छर। मेरी सलाह है कि अपनी डाक्टर से इससे बचने के लिये टीकाकरण की बात करें (जहाँ भी मुमकिन हो) जो कि गर्भावस्था के समय लगवाना सुरक्षित हो जैसे एच1एन1 स्वाइन फ्लू का टीका।

5. भरपूर आराम करें

तनाव, शरीर की बीमारी से लड़ने वाली ताकत को कम करने वाली बड़ी वजहों में से एक है। जो बात आपके दिमाग पर असर करती है वह आपके शरीर पर भी असर करती है। और अब अंतिम सलाहः सभी बुरे विचारों को एक तरफ रख दें। पैर पर पैर रख कर आरामे से बैठने से अच्छा है कि कोई किताब पढ़ें या अच्छा संगीत सुनें। अन्य तरीकों मेंप्रसव से पहले की मालिष करें, अपनी दोस्त या पेड़पौधों से बातें करें। कुछ भी करें पर तनाव लें। विष्वास करें, जब आपको तनाव नहीं होगा तो आपके शरीर की बीमारी से लड़ने की ताकत हमेषा मजबूत बनी रहेगी। 

सारांष

गर्भावस्था में हमारे शरीर की बीमारी से लड़ने की शक्ति कम हो जाती है इसलिये अपनी और अपने षिषु की सेहत को पक्का करने लिये जरूरी है कि रहनसहन और पोषण का सबसे ज्यादा ध्यान रखा जाये और शरीर की बीमारी से लड़ने की ताकत को बढ़ाया जाये। कुछ बातों को अपना कर आप इसे बड़ी सहजता से बढ़ा सकते हैं।

गर्भवती होने पर खाने का लालच बेकाबू हो जाता है तो आप इसे सेहतमंद मोड़ देकर पूरा कर सकते हैं जैसे मोसमी फलों से सलाद या इन फलों का केक बनाकर। सेहत को ठीक रखने के लिये व्यायाम जरूर करें। यह अपका तनाव कम करता है, वजन नहीं बढ़ने देता और डायबिटीज को रोकने में भी मदद करता है। डाक्टर की बतायी गयी सभी दवाइयां समय पर और नियम से लें। यह ध्यान रखें कि इसमें विटामिनडी युक्त कोई सप्लीमेंट भी हो। मौसम बदलने के समय मच्छरों से बचें और अपनी डाक्टर से बात करके गर्भावस्था में सुरक्षित टीकाकरण करवायें। और आखिर मेंतनाव से बचें। इसके लिये कोई किताब पढ़ें या संगीत सुनें या दोस्तों से बातें करें। इन बातों को अपनायें और देखें कि किस तरह से यह आपके शरीर की बीमारी से लड़नें की शक्ति को बढ़ाता है। 

अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे ! 

 

Leave a comment

क्या इडली सांबर है पौष्टिक आहार? पढ़े डॉक्टर्स की राय